Homeबिहारइतिहास में पहली बार हुआ ऐसा परीक्षा, आयोग को हुआ करोड़ों का...

इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा परीक्षा, आयोग को हुआ करोड़ों का नुक्सान , जानिए अब कब होगा बीपीएससी का दोबारा परीक्षा

बिहार लोक सेवा आयोग के द्वारा रविवार को 67वीं संयुक्त परीक्षा का आयोजन किया गया था। जिसमें बीपीएससी के इतिहास में पहली बार प्रश्न पत्र वायरल हो गया। हालांकि इस परीक्षा को पूर्ण रूप से कदाचार मुक्त परीक्षा करवाने के लिए अधिकारी हर संभव प्रयास किए। लेकिन रविवार को जैसे ही परीक्षा आरंभ हुआ उससे 45 मिनट पहले ही टेलीग्राम व्हाट्सएप पर प्रश्नपत्र वायरल होना शुरू हो गया। इसके साथ ही कुछ देर के बाद यूट्यूब पर भी प्रश्न पत्र लोगों तक पहुंचने लगा। बता दें कि प्रश्न पत्र वायरल होते अधिकारी हरकत में आ गए और इसके साथ ही तुरंत जांच कराने का आदेश जारी कर दिया। कुछ समय होते ही शाम तक अधिकारियों द्वारा बताया गया कि बीपीएससी द्वारा आयोजन किया गया प्रारंभिक परीक्षा को पूर्ण रूप से रद्द कर दिया गया।

आयोग ने जांच कमेटी गठित की गयी
वायरल प्रश्न की पुष्टि परीक्षा समाप्त होते ही परीक्षार्थियों ने कर दी। इसका जानकारी सीएमओ को ई-मेल से दे दी थी। मामले को लेकर आयोग ने जांच कमेटी गठित की गयी थी। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर परीक्षा को रद्द कर दिया गया है। आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि विभिन्न टीवी चैनलों पर प्रश्न पत्र लीक होने की सूचना प्रसारित की गयी थी। मामले में आयोग के अध्यक्ष आरके महाजन ने जांच के लिए आयोग की तीन सदस्यीय टीम गठित की थी।

परीक्षा में कम से कम 3 महीने से अधिक का समय लग सकता है
बता दें कि इस परीक्षा में 5 लाख से भी अधिक छात्र शामिल हुए थे। इन सभी परीक्षार्थियों को एक बार फिर बीपीएससी की 67वीं प्राम्भिक परीक्षा देने होंगे। आयोग द्वारा बीते शाम परीक्षा राधा होने की जानकारी दि थी। अब यह जानकारी नहीं दी गई है कि इसका परीक्षा दोबारा कब लिया जाएगा। माना जा रहा है कि इस परीक्षा में कम से कम 3 महीने से अधिक का समय लग सकता है। इसकी अभी पूर्ण रूप से जांच प्रक्रिया ही चलेगी। जांच के बाद ही आयोग द्वारा आगे की परीक्षा की तिथि जारी करेगा।

बीपीएससी परीक्षा के तिथि में आठ बार बदलाव हुए
बता दें कि इस परीक्षा का आयोजन करने की तिथि 8 बार बदल चुके हैं। सबसे पहले यह परीक्षा 26 दिसंबर को होना था, जिसे डालकर 23 जनवरी किया गया। परीक्षा केंद्र मिलने में दिक्कत के कारण इसकी तिथि 30 अप्रैल की गई। इस दिन जवाहर नवोदय विद्यालय की परीक्षा होनी थी, इसलिए बीपीएससी प्रारंभिक परीक्षा की तिथि फिर बढ़ा दी गई और इसे 7 मई कर दिया गया। इस दिन कोई बड़ी परीक्षा होने की वजह से फिर इसकी तिथ बढ़ाकर 8 मई कर दी गई।

Most Popular