Home क्रिकेट इंग्लैंड 'ब्लैक लाइव्स मैटर' आंदोलन को नहीं भूला है, जोफ्रा आर्चर ने...

इंग्लैंड ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ आंदोलन को नहीं भूला है, जोफ्रा आर्चर ने माइकल होल्डिंग से कहा

वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने मैचों से पूर्व एक घुटने के बल बैठकर ब्लैक लाइव्स मैटर (बीएलएम) का सांकेतिक समर्थन नहीं करने के लिए इंग्लैंड की आलोचना की थी जो जोफ्रा आर्चर को नागवार गुजरी जिन्होंने कहा कि उनकी राष्ट्रीय टीम के क्रिकेटर इस आंदोलन को नहीं भूले हैं। इंग्लैंड ने पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैचों से पहले ऐसा कोई सांकेतिक समर्थन नहीं किया था जिसकी होल्डिंग ने आलोचना की थी।

बीएलएम यानि अश्वेतों का जीवन भी मायने रखता है, एक राजनीतिक और सामाजिक आंदोलन है जो अश्वेत लोगों के खिलाफ पुलिस की बर्बरता के विरोध में शुरू हुआ था। आर्चर ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा, ”हम नहीं भूले हैं, यहां कोई भी ब्लैक लाइव्स मैटर को नहीं भूला है। मुझे लगता है कि यह माइकल होल्डिंग के लिए थोड़े कड़े शब्द होंगे कि उन्होंने आलोचना करने से पहले कोई शोध नहीं किया। मुझे पूरा विश्वास है कि वह नहीं जानते कि पर्दे के पीछे क्या हो रहा है।”

पाकिस्तानी कप्तान सरफराज को ICC ने दी सजा, अफ्रीकी खिलाड़ी पर की थी नस्लीय टिप्पणी

बारबडोस में जन्में इस तेज गेंदबाज ने कहा, ”मुझे नहीं लगता कि उन्होंने (इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड के मुख्य कार्यकारी) टॉम हैरिसन से बात की। मैंने टॉम से बात की और हम इस पर काम कर रहे हैं।” आर्चर ने हालांकि इस बारे में विस्तार से नहीं बताया कि उनकी टीम नस्ली भेदभाव को खत्म करने के लिए क्या कर रही है।

दूसरी ओर, कुछ समय पहले पूर्व ऑस्ट्रेलियाई हरफनमौला डैन क्रिस्टियन ने नस्लवाद के मुद्दे पर कहा कि ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट में नस्लवाद ‘सामने’ से नहीं होता, लेकिन यह निश्चित रूप से मौजूद है। दुनिया भर से विभिन्न खेलों के खिलाड़ी और टीमें एकजुट होकर ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ अभियान का समर्थन कर रह रहे हैं। क्रिस्टियन ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया द्वारा कराई गई पैनल चर्चा ‘क्रिकेट कनेक्टिंग कंट्री’ पर कहा, ”मुझे लगता है कि (नस्लवाद) ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट में मुद्दा है।”

इंग्लैंड के पूर्व U19 कप्तान रफीक ने कहा, नस्लवाद की जांच कर रहे यार्कशर काउंटी पर भरोसा नहीं

उन्होंने कहा, ”मुझे नहीं लगता कि यह आपके सामने होता है जैसा आप दुनिया भर में किसी अन्य जगह या फिर आस्ट्रेलियाई संस्कृति में देख सकते हो, लेकिन यह निश्चित रूप से है।” उन्होंने कहा, ”यह अनौपचारिक नस्लवाद ज्यादा होता है। यहां वहां एक छोटी पंक्तियां, जो मजाक के लिए होती हैं। और इसमें से ज्यादा चीजें, मेरे लिये व्यक्तिगत रूप से, मेरे रंग को लेकर होती है और यह तथ्य कि मैं ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी नहीं दिखता, जो भी इसका मतलब हो। मेरे लिए सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है।”

Most Popular