अस्पताल में पुलिस को क्यों दिखाया था अंगूठा? सुशांत केस में संदीप सिंह ने तोड़ी चुप्पी, ये सवाल भी दागे

sandeep singh

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने के लिए सीबीआई, एनसीबी और ईडी जुटी हुई है। इस बीच फिल्म निर्माता और खुद को सुशांत सिंह राजपूत का दोस्त बताने वाले संदीप सिंह पर भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं। अपने ऊपर उठ रहे सवालों पर संदीप सिंह ने चुप्पी तोड़ी है और सवाल किया है कि जो लोग आज उन पर आरोप लगा रहे हैं, वे लोग सुशांत मौत की खबर के वक्त कहां थे। 

समाचार एजेंसी एएनआई से संदीप सिंह ने कहा, ‘जो लोग मेरे ऊपर आरोप लगाए जा रहे हैं, उन्हें जवाब देना चाहिए कि जब उन्हें खबर मिली (सुशांत की मौत की) या उनके अंतिम संस्कार की, तो वे सुशांत सिंह राजपूत के घर या अस्पताल क्यों नहीं गए। वे उनके परिवार के साथ क्यों नहीं खड़े हुए।?’

फिल्म निर्माता संदीप ने सुशांत को पहले से जानने का दावा किया है और कहा है कि वह अभिनेता के परिवार से कभी नहीं मिले थे। हाल ही में संदीप ने दिवंगत अभिनेता के साथ अपनी बातचीत के स्क्रीनशॉट भी इंस्टाग्राम पर साझा किए।

सुशांत केस LIVE: सवालों के चक्रव्यूह में फंसी रिया चक्रवर्ती आज फिर पूछताछ को NCB दफ्तर पहुंचीं, गिरफ्तारी पर लटकी है तलवार?

संदीप सिंह ने अंगूठा दिखाने पर भी अपनी सफाई दी है। संदीप ने कहा कि मैं और सुशांत की दीदी मीतू सिंह कूपर अस्पताल पहुंचे। तभी एक कांस्टेबल ने पूछा-संदीप सिंह कौन है? उस वक्त चिल्ला कर जवाब देने या मास्क हटाने के बजाय, मैंने उसे यह बताने के लिए कि मैं ही हूं, अंगूठा दिखाया। मैंने क्या गलत किया? मुझे क्या करना चाहिए? क्या मुझे एक परिवार का समर्थन करते हुए अपने जेस्चर की परवाह करनी चाहिए थी?’ बता दें कि संदीप पुलिसवालों को अस्पताल के बाहर अगूंठा दिखाते देखे गए थे। यहीं पर सुशांत का शव था और इसी के बाद से सवाल उठने शुरू हो गए थे। 

इसके अलावा अपने ऊपर लगाए गए आरोपों का खंडन करते हुए संदीप सिंह ने कहा कि वह दिवंगत अभिनेता के दोस्त हैं और लॉकडाउन के दौरान भी उनसे संपर्क करने की कोशिश की थी। उन्होंने कहा, ‘एक साल से सुशांत सिंह राजपूत छीछोरे और दिल बेचारा फिल्म की शूटिंग में व्यस्त थे, जबकि मैं पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म बनाने में व्यस्त था। हर व्यक्ति अपने जीवन में व्यस्त रहता है। अगर दो लोग लंबे समय से संपर्क में नहीं हैं, तो इसका मतलब यह नहीं है कि अब वे दोस्त नहीं हैं।’

संदीप ने आगे कहा, ‘लॉकडाउन के दौरान मैंने सुशांत सिंह को एक संदेश भेजा, ‘भाई?” लेकिन मुझे कभी कोई जवाब नहीं मिला क्योंकि मेरे पास उसका नया नंबर नहीं था। अगर उसने अपना नंबर बदल लिया, तो इसमें मेरी क्या गलती?’

फिल्म निर्माता ने कहा कि वह मीडिया ट्रायल और सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर लोगों द्वारा उनके परिवार को टारगेट किए जाने से वह निराश हैं। उन्होंने कहा, ‘ मीडिया वाले 20 दिनों से मेरे आवास के बाहर डेरा डाले हुए हैं? क्यों? क्या मैं आरोपी हूं? मेरे सोसाइटी वाले मुझे घर छोड़ने के लिए कह रहे हैं।

बता दें कि राजपूत के चचेरे भाई ने नीरज कुमार सिंह बबलू ने संदीप और सिद्धार्थ पिठानी से सीबीआई पूछताछ की मांग की थी। कांग्रेस पार्टी ने भी सत्तारूढ़ भाजपा को निशाना बनाने के लिए संदीप सिंह के नाम का इस्तेमाल किया था और मुंबई पुलिस को जांच को संभालने देने के बजाय सीबीआई जांच पर जोर देने के पीछे के मकसद से सवाल उठाया था।

गौरतलब है कि 14 जून को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में मृत अवस्था में मिले थे। अभी सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच सीबीआई कर रही है। सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई ने कई लोगों से पूछताछ भी की है।